biography

APJ Abdul Kalam in hindi biography

APJ Abdul Kalam in hindi biography

जन्म: 15 अक्टूबर 1931धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु)

मृत्यु: 27 जुलाई, 2015, शिलोंग, मेघालय

पद/कार्य: भारत के पूर्व राष्ट्रपति

संक्षिप्त विवरण :

APJ Abdul Kalam in hindi biography :  Dr.A.P.J.  Abdul kalam का पूरा नाम  अवुल पाकीर जैनुलब्दीन अब्दुल कलाम था ! वह  भारत के 11 वे (2002-200 ) राष्ट्रपति थे ! पेशे से, वह भारत में एक वैज्ञानिक और प्रशासक थे ! उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के साथ भारत के राष्ट्रपति बनने से पहले aerospace इंजीनियर के रूप में काम किया।

उन्हें मिसाइल मैन ऑफ इंडिया’ के नाम से भी जाना जाता था क्योंकि उन्होंने  लॉन्च वाहन (launch vehicle) और बैलिस्टिक मिसाइल प्रौद्योगिकी (ballistic missile technology) के विकास पर काम किया था ! 1998 में भारत में आयोजित Pokhran-II परमाणु परिक्षण में उन्होंने निर्णायक भूमिका निभाई थी !

APJ Abdul Kalam in hindi biography Dr. A.P.J. Abdul Kalam इंदौर, अहमदाबाद, और शिलोंग के भारतीय प्रबंधन संस्थान (Indian Institute of Management) में विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में भी रह चुके थे ! वे मैसूर की  JSS University और चेन्नई की ANNA University में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के प्रोफेसर थे! वे बेंगलुरु के भारतीय विज्ञान संस्थान (Indian Institute of Science) में और थिरुवनंतपुरम के भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (Indian Institute of Space Science) में एक महान सभासद (fellow) थे !

APJ Abdul Kalam in hindi biography उनके द्वारा लिखी गयी किताब  ‘India 2020’ में उन्होंने भारत को वर्ष 2020 तक पूरी तरह से विकसित बनाने की सिफारिश की थी ! उनके छात्रों के बीच बातचीत और प्रेरणादायक भाषणों ने उन्हें युवाओ के बीच लोकप्रिय बना दिया ! 2011 में, उन्होंने भारत के युवाओं के उद्देश्य से  ‘What Can I Give Movement’ नामक एक मिशन का शुभारंभ किया, जिसका उदेश्य देश में भ्रष्टाचार को ख़त्म करना

 

प्रारंभिक जीवन :

APJ Abdul Kalam in hindi biography  APJ Abdul Kalam in hindi biography: Dr. A.P.J. Abdul Kalam 15 अक्टूबर 1931 को भारत के तमिलनाडु जिले के रामेश्वरम में कम शिक्षित और छोटे से तमिल परिवार में पैदा हुए थे ! उनके पिता जैनुलब्दीन एक नाव के मालिक थे, और उनकी मां, अशिअम्मा एक गृहिणी थीं। उसने अपने पिता का साथ देने के लिए युवावस्था में काम करना शुरू कर दिया था । वो पढाई में उतने अछे नही थे लेकिन हमेशा उनमे सिखने की जिज्ञासा रहती थी ! उनकी गणित में सबसे ज्यादा रूचि थी !

APJ Abdul Kalam in hindi biography उन्होंने रामेश्वरम एलीमेंटरी स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की ! 1954 में, उन्होंने तिरुचिरापल्ली में सेंट जोसेफ कॉलेज से भौतिकी में स्नातक (graduate) किया ! इसके बाद, 1955 में, वह मद्रास (अब चेन्नई) चले गए और मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में शामिल हुए और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन किया।

APJ Abdul Kalam in hindi biography उनका सपना एक लड़ाकू पायलट बनना था, लेकिन वह नौवें स्थान पर थे ,जबकि वायुसेना ने केवल आठ स्लॉट्स की पेशकश की थी। अग्नि, पृथ्वी, आकाश, त्रिशूल और नाग मिसाइलों पर उनके काम ने उन्हें देश में लोकप्रिय बना दिया ! और देश का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ा दिया !

निधन :

APJ Abdul Kalam in hindi biography Dr. A.P.J. Abdul Kalam का निधन 27 जुलाई 2015 को इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, शिलोंग में भाषण देते समय दिल का दौरा पड़ने से हुई !

यात्रा :

  1. Dr. A.P.J. Abdul Kalam 1960 में graduation करने के बाद रक्षा अनुसंधान (Defence Research) और विकास संगठन (Development Organisation) में वैज्ञानिक के रूप में शामिल हो गये !

  2. अपने कैरियर की शुरुआत में, उन्होंने भारतीय सेना के लिए एक छोटा हेलीकॉप्टर तैयार किया था !

  3. उन्होंने INCOSPAR की समिति के एक भाग के रूप में प्रसिद्ध वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के साथ भी काम किया।

  4. 1963 से 1964 के बीच उन्होंने कई जगह के दौरे किये जैसे गोदार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर जो की मेरीलैंड में स्थित है , NASA  के लैंगली रिसर्च सेंटर जो की hampton, verginia में है !

  5. 1965 में, उन्होंने पहली बार स्वतंत्र रूप से एक विस्तार योग्य रॉकेट परियोजना पर रक्षा अनुसंधान (Defence Research ) और विकास संगठन (Development Organisation) में काम किया।

  6. जब उन्हें 1 9 6 9 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) में स्थानांतरित किया गया तो वह भारत के पहले स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण वाहन ( SLV-III ) के प्रोजेक्ट डायरेक्टर बन गए ! जुलाई 1 9 80 में, उनकी टीम पृथ्वी की कक्षा के निकट रोहिणी उपग्रह को तैनात करने में सफल रही।

  7. Dr. A.P.J. Abdul Kalam ने प्रोजेक्ट वालियंत और प्रोजेक्ट डेविल का निर्देशन किया जिसका उद्देश्य SLV कार्यक्रम की तकनीक का इस्तेमाल करते हुए बैलिस्टिक मिसाइल विकसित करना था जो कि एक बहुत बड़ी सफलता थी!

  8. जुलाई 1992 से दिसंबर 1 999 तक वह रक्षा अनुसंधान (Defence Research) एवं विकास संगठन (Development Organisation) के सचिव और प्रधान मंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार बने रहे।

 

भारत के राष्ट्रपति के रूप में :

  1. National Democratic Alliance (NDA) सरकार ने 10 जून 2002 को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को डॉ। कलाम का नाम राष्ट्रपति पद के लिए  प्रस्तावित किया।
  2. Dr. A.P.J. Abdul Kalam भारत के 11वे  राष्ट्रपति बने !
  3. कांग्रेस पार्टी और समाजवादी पार्टी ने उनकी उम्मीदवारी का समर्थन किया !
  4. Dr. A.P.J. Abdul Kalam ने 25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक भारत के राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया।
  5. उन्होंने इस चुनाव में 9 22, 884 वोट प्राप्त किये थे जबकि लक्ष्मी सेहगल को केवल 107,366 मत मिले।
  6. वे भारत के तीसरे राष्ट्रपति थे जिन्होंने प्रतिष्ठित भारत रत्न, उच्चतम नागरिक सम्मान प्राप्त किया है!
  7. वे राष्ट्रपति भवन में रहने वाले पहले स्नातक (bachelor) और वैज्ञानिक थे।
  8. उनके अनुसार, राष्ट्रपति के पद पर रहते हुए उनके लिए सबसे कठिन काम लाभ के office के बिल पर हस्ताक्षर करन था !

 

पुरस्कार और सम्मान :

  1. 1997 में देश ने भारत रत्न के साथ डॉ.कलाम को सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार प्रदान किया।
  2. 1981 और 1990 में उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।
  3. 1 998 में, भारत सरकार ने उन्हें वीर सावरकर पुरस्कार दिया।
  4. 1 997 में, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने उन्हें राष्ट्रीय एकता (National Integration) के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार से सम्मानित किया।
  5. अलवर रिसर्च सेंटर, चेन्नई ने उन्हें 2000 में रामानुजन पुरस्कार प्रदान किया।
  6. 2007 में उन्हें UK की वॉल्वरहैम्प्टन विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट ऑफ साइंस की उपाधि दी !
  7. 2007 में UK की रॉयल सोसाइटी ने उन्हें King Charles II मैडल से सम्मानित किया !
  8. 2008 में उन्होंने सिंगापुर की नानयांग ( Nanyang) टेक्नोलॉजीकल यूनिवर्सिटी से डॉक्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग प्राप्त किया।
  9. 2009 में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी जो की USA में है , ने उन्हें इंटरनेशनल वॉन कर्मन विंग्स अवॉर्ड (International von Karman Wings Award) के साथ सम्मानित किया।
  10. उन्होंने 2009 में USA के ASME  फाउंडेशन से हूवर (Hoover) मेडल प्राप्त किया।
  11. 2010 में Waterloo विश्वविद्यालय ने उन्हें डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंग के साथ सम्मानित किया
  12. 2011 में वे IEEE के सदस्य बन गये !
  13. 2012 में Simon Fraser University ने उन्हें Doctor of Laws की उपाधि दी !
  14. 2013 में उन्हें नेशनल स्पेस सोसाइटी द्वारा  Von Braun Award दिया गया !
  15. 2014 में उन्होंने एडिनबर्ग (Edinburgh) यूनिवर्सिटी, UK से डॉक्टर ऑफ साइंस में संमानित (honorary) उपाधि प्राप्त की।